Sunday, October 24, 2010

(कौन हूँ मैं!)Sweet Angel ka Sweet World: congratulations

(कौन हूँ मैं!)

कोकिल जितनी घायल होती है

उतनी मधुर कुहुक देती है

जितना धुंधवाता है चंदन

उतनी अधिक महक देता है

मैने खुद को ना जाना था,ना पहचाना था,

कौन हूँ ,क्या हूँ , कैसी हूँ ,कहाँ हूँ ………

प़र तेरे प्रेम ने बताया कौन हूँ मैं!

तूने ही तो तराशे अंग-प्रत्यंग

तूने ही सुनी मेरी मधुर धुन

जगाया मेरा सौन्दर्य अपार

साधारण नार से एक दैवीय अप्सरा

पांवों की थिरकन में भर दिया जादू

नैनो कि चितवन जो कर दे बेकाबू

मैं तो केवल तन ही तन थी

जब तक ना मन को जाना था

मैं तो केवल बांस ही रहती

जो होठो से तेरे बंसी बन ना लगती

मैं तो बस एक तरु ही होती ,

जो तू चन्दन सा ना महकाता

डॉ. स्वीट  एंजिल 

बस एक भावपूर्ण प्रयास ..............

30 comments:

dr.nirmal jha said...

कविता के एक एक शब्द को खूब बढ़िया और आत्मीयता के स्पर्श से सिंचित करके प्रस्तुत किया है जो क़ि निरंतर आत्मविभोर कर देने तक सीमित नहीं है, बल्कि विश्वास को और दृढ कर रही हैं, . अति सुंदर.....

Anonymous said...

tum toe khud ek khoobsoorat rachana ho iss nature ki god ki aur

meri soch ki

haa mere dil ki

R.Singh said...

shalini ...kul milakar tum ek sunder rachana ho

Anonymous said...

ji aap hamesha iss khule dil me amantrit hain

HARISH KATYAL said...

BEAUTIFUL WORDS JUST LIKE YOU SHALINI

C.Y. said...

डॉ.शालिनी .सच्चाई को शब्दों में व्यक्त करना कोई आपसे सीखे .बहुत सुंदर लिखतीं हैं आप .

MANISH said...

Be not only a giver of love, but also a
peace-maker,

that wherever you go you bring harmony,
calmness,
...
and upliftment. We do not want to be human
skunks.

We want to be like the rose, which even if
crushed

exudes its sweet fragrance. Be a human rose,

spreading the essence of peace wherever you
go.
MANISH

Cindy Rick said...

Dr.Shalini...........Thank you!! And loving your books!!!!

BOBILYY.................CHD. said...

I've seen angels in the sky,
I've seen snow fall in July,
I've seen things you could
only imagine to see or do,
But I still haven't seen anything sweeter than you!dr.shalini

Avinash Bhattacharya said...

In the morning I don’t eat coz I think of u,
at noon I don’t eat coz I think of u,
in the evening I don’t eat coz I think of u,
at night I don’t sleep coz Im hungry

achyut panday said...

bahut hi sunder bhavna dr.sahiba

om shanker (shubh aarogyam) said...

मन छू लेने वाली अभिव्यक्ति है।काफ़ी कुछ सोचने को मजबूर करती है।

Roli Pathak said...

ये सब मन की बातें हैं....... अंदर से तब निकलती हैं जब उथल-पुथल का असर हो.

nishi khadhari said...

सुन्दर अर्थपूर्ण रचना

dr.tamanna said...

एक बहुत ही गहरी, व सोचने पर मजबूर करती हुई रचना है....बहुत खूब...बस यही कह पाऊँगी.

ACHINT SHARMA said...

bahut acchi abhivyakti hai... dr. sahiba
bahut man lagakar likhi hue rachna hai...thanks.

shekh said...

Dil hi Dil mein
chaand ko tassaver kiya toh aap ka chehra nazar aaye,
Fiza ke samaa ki faryaad karoon toh aap ki yaad aaye,
Betaad hokar dil, naraaz hokar agar aankhen band karoon toh,
bandh kiye aankhoon mein aap ka tasveer saamne aaye.
Chahatoon ka sar ab hum pe hoone laga hai,
Muskurahatoon ka asar ab humpe hoone laga hai,
kaise

Anonymous said...

ur eyes ...force me to see and talk...really
very first day se
ur personelty is very charming and magnitic
I like it

baurush..........chd said...

yeah ............dr. i agree with you
Love is something you can't Describe, like the look of a Rose......
The Smell of the Rain.....
Or
The feeling of Forever.....

:) smile always said...

बहुत बढ़िया. अब तो लगता है जैसे अचानक ही मुझे कविताओं का समंदर मिल गया है और एक से बढ़ कर एक बुध्धिजीवियों का सान्निध्य पुरस्कार के रूप में मिल रहा है. बहुत - बहुत बधाई.

Anonymous said...

लम्हों में जो कट जाए वो क्या ज़िन्दगी ..
आंसू में जो बह जाए वो क्या ज़िन्दगी ..
ज़िन्दगी का तो फलसफा ही कुछ और है ..
जो हर किसी को समझ आये वो क्या ज़िन्दगी ..........?

jiya said...

"dr.shaliniagam (कौन हूँ मैं!)"
you are the best poetess of this world

gurudatta samantsaar said...

DrSweet....u look really more sweet in ur posture...great of u to have rendered sweetness...bravo....the beauty of sweetness....love....Gurudatta.

Dhananjay Singh said...

बहुत सुन्दर रचना...

शालिनी जी- एक एक शब्द अनमोल है आपकी रचना का!

नए रूप, स्वरूप और गर्वानुभूति के साथ,

पुरा-नवीन का सामंजस्य;

Ap Bansal said...

to ab aap sochiye sabko kitna nirmal anand pradaan karti hain aap, aap ki yeh chanchal muskurahat............
ek saral sachi sadagi si hai aapki muskurahat main...........

Ap Bansal said...

bahoot hi sunder dikh rahi hain aap us pic main, aisa lag raha tha jaise ki, khetoon main sarsoon lagi hoo, or bole to, surajmuckhi khila ho..

JAY said...

▒♥_______/)______./¯"""/')
▒♥¯¯¯¯¯¯¯¯\)¯¯¯¯¯'\_„„„„\)♥♥ღღ╭ღ
▒♥▒♥▒♥▒♥▒♥▒♥▒♥▒♥▒♥▒♥▒♥▒♥
CONGRATULATIONS...DR.SWEETY

Sweet Angel said...

सभी मित्रो का ह्रदय से आभार. आपका प्यार मुझे जीवन पथ पर आगे बढ़ने की उर्जा देता हैं....

Anonymous said...

अच्‍छा विश्‍लेषण.. इसे और विस्‍तार दिया जा सकता है....

shruti malik said...

बहुत खूसूरत ...मीठी सी ..आशा भरा सन्देश देती आपकी रचना ...आपका हर दिन और हर रात मंगलमय हो.............